इस जड़ी बूटी के पत्तों का रस कई बीमारियों को दूर कर सकता है


पौधा एक छोटा सदाबहार होता है और इसकी ऊंचाई 2.3 मीटर से 3.5 मीटर तक होती है। इसके फूल सफेद रंग के होते हैं।इस पौधे की कई शाखाएँ हरे-भूरे रंग की होती हैं। और यह चारों ओर फैला हुआ है। आर्द्र मानसूनी हवा या रिमझिम बारिश में अर्दुसी से उसकी शाखाओं को काटकर और कलमों के रूप में रोप कर नए पौधे तैयार किए जाते हैं।

इस जड़ी बूटी के पत्तों का रस कई बीमारियों को दूर कर सकता है


स्लेट के पत्ते अमरूद के पत्तों के समान, तीन से चार इंच लंबे, डेढ़ से दो इंच चौड़े और दाँतेदार होते हैं। इसकी पानमाटी में हल्की महक होती है। पत्ती का रंग हरा होता है और सूखने पर पीला हो जाता है। अर्दुसी में तुलसी के समान गुच्छों में फूल लगते हैं। इसके फूलों का रंग सफेद होता है। यह स्लेट मुख्यतः दो प्रकार की होती है जिसमें स्लेट दो प्रकार की होती है अर्थात् काली और काली। धुली हुई स्लेट हरी और काली स्लेट काली रंग की होती है। जिसमें ढोली अर्दुसी उत्तम औषधि है, जबकि काली अर्दुसी कम पाई जाती है। हम बताएंगे कि इस अर्दुसी का प्रयोग किन रोगों में किया जा सकता है।

कफ (Cough) : अर्दुसी से पतला कफ पतला होता है। जो पेट के माध्यम से कफ को बाहर निकाल देता है। नई खांसी की अपेक्षा पुरानी पुरानी खांसी को ठीक करने के लिए अर्दुसी बहुत उपयोगी है। सांस की बीमारियों में अर्दुसी बहुत उपयोगी है। तेलिया टंकन खार को तीखे रस में 8 मिलीग्राम शहद में मिलाकर सुबह-शाम चाटने से खांसी ठीक हो जाती है। बल के अनुसार बच्चे को चाटने से कफ का नाश होता है।

दमा (अस्थमा) : अर्दुसी के पत्तों का रस शहद या चीनी में मिलाकर पीने या इसके सूखे पत्तों का काढ़ा पीने या सूखी अर्दुसी के पत्तों को पीसकर शहद में चाटने से खांसी, दमा या कफ के कारण होने वाले बुखार में बहुत आराम मिलता है। सार्डिन का रस और गाय का मक्खन मिलाकर त्रिफला (हरदे, बेहेड़ा या आंवला) के चूर्ण में मिलाकर दमा ठीक हो जाता है। केले के पत्ते, हल्दी, धनिया, केसर, भांगमूल, काली मिर्च, अदरक और धनिया को बराबर मात्रा में लेकर काढ़ा बनाकर उसमें 5 ग्राम टीका चूर्ण मिलाकर दमा ठीक हो जाता है। अर्दुसी के पत्तों को सुखाकर इसके पत्तों की बीड़ी बनाकर पीने से दमा में आराम मिलता है।

कुष्ठ रोग : केले के पत्तों का काढ़ा बनाकर पीने से कुष्ठ रोग दूर हो जाता है। अरदूसी के फूल को छाया में सुखाकर पीसकर शहद और चीनी के साथ लेने से कुष्ठ रोग ठीक हो जाता है। . केले के पत्ते, अंगूर और सहिजन का काढ़ा शहद और साकार नखा के साथ लेने से खांसी और खांसी ठीक हो जाती है।

खांसी, खांसी : 20 ग्राम अर्दुसी के पत्तों को शहद में मिलाकर पीने से खांसी दूर होती है। अर्दुसी के पत्तों का रस निकालकर शहद में मिलाकर पीने से खांसी दूर होती है और रस में शहद और सिंधव नमक मिलाकर पीने से खांसी दूर होती है। केले के पत्ते, अंगूर और सहिजन का काढ़ा शहद और साकार नखा के साथ लेने से खांसी और खांसी ठीक हो जाती है।

सिरदर्द: तनावपूर्ण जीवन में सिरदर्द एक आम समस्या है। अर्दोसी के फूल को छाया में सुखाकर 1 से 2 ग्राम की मात्रा में चूर्ण बनाकर गुड़ की मात्रा में डालकर सिर दर्द दूर होता है। अर्दुसी के पत्तों को छाया में सुखाकर चाय बनाने से सिर का दर्द ठीक हो जाता है। आप इस चाय में स्वाद के लिए थोड़ा नमक भी मिला सकते हैं।

आंखों का दर्द: किसी भी बीमारी के साइड इफेक्ट के रूप में या मोबाइल, टीवी या कंप्यूटर के सामने बैठने से आंखों का दर्द ठीक हो जाता है। अर्दुसी में औषधीय गुण होते हैं जिससे आंखों की सूजन भी दूर होती है। अर्दुसी के 3 से 4 ताजे फूल गर्म करके आंखों पर बांधने से आंखों के रोग और आंखों की सूजन दूर हो जाती है।

चांदी और मुंह में सूजन : मुंह से चांदी निकालने के लिए अर्दुसी बहुत उपयोगी होती है। आयुर्वेद के अनुसार अर्दुसी शीतल और ज्वरनाशक है। मुंह में चांदी हो तो इसके लक्षण कम होते हैं। अगर किसी संक्रमण के कारण मुंह में चांदी है और सूजन है तो अर्दुसी के 2 से 3 पत्ते चबाकर उसका रस मुंह में रखने से चांदी और मुंह की सूजन ठीक हो जाती है। दांतों में स्लेट के छोटे-छोटे सड़े हुए टुकड़ों को लगाने से मुंह का रोग ठीक हो जाता है।

मसूढ़ों की बीमारी : मसूढ़ों में दर्द और सूजन हो तो अर्दुसी को औषधि के रूप में प्रयोग करने से इस रोग और दर्द से छुटकारा मिल सकता है। अर्दुसी में कषाय का रस होता है जो दर्द और सूजन से राहत दिलाता है। इसके अनुसार स्लेट का चूर्ण दांतों पर मलने से पायरिया जैसी बीमारी भी दूर हो जाती है।

टीबी (तपेदिक): अर्दुसी बहुत उपयोगी है और टीबी जैसी भयानक बीमारी को भी नष्ट कर देती है। टीबी को हमेशा के लिए मिटाने के लिए 20 ग्राम अर्दुसी के पत्ते के रस का सेवन नियमित रूप से करना चाहिए। 20 से 30 मिलीलीटर अर्दुसी के पत्तों का काढ़ा पिसी हुई काली मिर्च के चूर्ण में मिलाकर पीने से टीबी रोग ठीक हो जाता है।

बुखार: असंतुलित आहार से कई बीमारियां होती हैं, जिनमें एसिडिटी और अपच जैसी समस्याएं शामिल हैं। इससे छुटकारा पाना है तो अर्दुसी का सेवन करना जरूरी है। 1-1 ग्राम चुन्नी की छाल का चूर्ण, 1/4 अजमा चूर्ण और 1/8 सिन्धव नमक को नींबू के रस में मिलाकर 1-1 ग्राम की गोलियों में सुबह-शाम, 1 से 3 गोली सुबह-शाम लें। बुखार ठीक करता है।

अतिसार: मसालेदार भोजन करने और तला हुआ भोजन खाने से शरीर में दस्त की समस्या हो जाती है। दस्त की समस्या से राहत मिलने पर अर्दुसी के पत्तों को 10 से 20 मिलीलीटर की मात्रा में लेकर पीने से दस्त की समस्या दूर हो जाती है। पुराने दस्त की समस्या हमेशा बनी रहती है।अर्दुसी के पत्तों का चूर्ण बनाकर खाने से अतिसार ठीक हो जाता है।

सूजन रोग जलोदर: पेट में अतिरिक्त प्रोटीन के कारण सूजन होती है। इस दर्द और पेट फूलने के दौरान 10 से 20 मिलीलीटर अर्दुसी के पत्ते का रस दिन में 2 से 3 बार सेवन करने से पेट फूलने की समस्या दूर हो जाती है। अर्दुसी में पेट की गैस या पेट फूलने को दूर करने का गुण होता है। गैस को शरीर से बाहर निकालने से यह समस्या दूर होती है।

धधार : त्वचा और रक्त में जलन पैदा करने वाले जहरीले पदार्थ खाने और अन्य लोगों के कपड़ों का उपयोग करने, बार-बार शरीर के संपर्क में आने या बिस्तर पर बैठने से धधार जैसा रोग हो सकता है। धधार एक कवक रोग है। अर्दुसी से इस रोग को दूर किया जा सकता है। अर्दुसी के 10 से 13 कोमल ताजे पत्ते और 2 से 5 ग्राम हल्दी को गोमूत्र और वटी में मिलाकर घावों पर लगाने से घाव ठीक हो जाते हैं।

शरीर की दुर्गंध : बहुत से लोगों को शरीर से असहनीय दुर्गंध आती है, व्यक्ति को दुर्गंध नहीं आती है लेकिन जो उसके पास आता है उससे दुर्गंध आती है इसलिए वे दूर रहते हैं, जब बार-बार नहाने से समस्या दूर नहीं होती और दुर्गंध या दुर्गंध आना स्वाभाविक है। अर्दुसी के पत्तों के रस में थोड़ा सा शंख का चूर्ण बनाकर शरीर पर लगाने से यह दुर्गंध दूर हो जाती है।

टाइफाइड : अर्दुसी में टाइफाइड को ठीक करने का गुण भी होता है। जिससे टाइफाइड से राहत पाने के लिए अर्दुसी की जड़ का चूर्ण 3 से 6 ग्राम की मात्रा में सेवन करने से टाइफाइड में आराम मिलता है। तुलसी के पत्तों के रस को शहद के साथ लेने से भी टाइफाइड में आराम मिलता है।

खसरा : खसरा की समस्या होने पर अर्दुसी का 1 पत्ता लेकर उसमें 3 ग्राम मुलेठी का काढ़ा बनाकर पीने से खसरा और खसरा ठीक हो जाता है। यदि यह शुरू हो गया है, तो यह तुरंत सूख जाता है और दर्द नहीं होता है।

इस प्रकार बुखार, उल्टी, मधुमेह, कुष्ठ, पीलिया, पित्ती, उदासीनता, प्यास, प्रसव पीड़ा, मूत्र और गुर्दे के रोग आदि के लिए चुन्नी के पत्ते के रस और इसके फूलों के रस के उपयोग से भी इन रोगों से छुटकारा मिलता है। इस प्रकार यह औषधि कई प्रकार से उपयोगी है। हम आशा करते हैं कि अर्दुसी के सभी महत्वपूर्ण गुणों और लाभों के बारे में यह जानकारी आपके लिए बहुत उपयोगी होगी और आप जिस भी समस्या का सामना कर रहे हैं, उससे छुटकारा पा सकते हैं।



Advertisement


Note :

किसी भी हेल्थ टिप्स को अपनाने से पहले डॉक्टर की सलाह अवश्य ले. क्योकि आपके शरीर के अनुसार क्या उचित है या कितना उचित है वो आपके डॉक्टर के अलावा कोई बेहतर नहीं जानता


एक टिप्पणी भेजें

और नया पुराने